प्रशासनिक सेटअप

औरंगाबाद दक्षिण बिहार के महत्वपूर्ण जिलों में से एक है , इसके उत्तर में अरवल जिला, दक्षिण में झारखंड राज्य के पलामू जिले द्वारा, पूर्व में गया जिले द्वारा और पश्चिम में सोन नदी से परे रोहतस जिला स्थित है। इस जिले के लोग मुख्य रूप से मगही बोलते हैं और बड़े पैमाने पर कृषि और अन्य संबंधित गतिविधियों को व्यवसाय के रूप में लेते हैं। ग्रैंड ट्रंक रोड जिले से गुजरती है और आसान परिवहन प्रदान करती है, पूर्व में कोलकाता और पश्चिम में दिल्ली को कनेक्ट करती है । जिला मुख्यालय औरंगाबाद में है, पटना, राज्य की राजधानी से करीब 170 किलोमीटर दूर है।

जिलाधिकारी एवं समाहर्ता :

जिलाधिकारी एवं समाहर्ता को जिले में तैनात किया जाता है जो कि जिला के राजस्व और नागरिक प्रशासन का सबसे उच्च अधिकारी होते हैं एवं अक्सर आई.ए.एस कैडर के होते हैं । जिलाधिकारी जिले में विकास और कल्याण कार्यों का संचालन करते हैं । ए.डी.एम ( अपर समाहर्ता ) और अन्य अधिकारियों को डीएम की सहायता के लिए पोस्ट किये जाते हैं।

अनुमंडल एवं प्रखंड :

औरंगाबाद जिला को औरंगाबाद एवं दाउदनगर नामक दो अनुमंडलों में विभाजित किया गया है जिनमे अनुमंडल पदाधिकारियों का पदस्थापन किया जाता है । अनुमंडल पदाधिकारी के रूप में अक्सर आई . ए . एस . अथवा बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी होते हैं । ये जिला पदाधिकारी के प्रत्यक्ष नियंत्रण में होते हैं | इन दो अनुमंडलों को 11 प्रखंड में विभाजित किया गया है । इन प्रखंडों में बी.डी.ओ. पोस्ट किए गए हैं जिनपर विकास और कल्याणकारी परियोजनाओं को लागु करने की जिम्मेदारी होती है । औरंगाबाद जिले में 1884 गाँव हैं ।

पुलिस अधीक्षक:

पुलिस अधीक्षक, औरंगाबाद जिला पुलिस प्रशासन के प्रमुख होते हैं , ये अधिकारी मुख्यतः भारतीय पुलिस सेवा के होते हैं । इनके अधीन पुलिस उपाधीक्षक , पुलिस निरीक्षक एवं थाना प्रभारी की नियुक्ति की जाती है । इन सब के अधीन पुरे जिले की विधि व्यवस्था के जिम्मेदारी होती है ।

न्यायिक प्रशासन:

न्यायाधीश और मुंशीफ मजिस्ट्रेटों को तैनात किया जाता है जिला और उप-विभाजन जो विभिन्न प्रकार के न्याय और प्रशासन प्रदान करते हैं। जिला न्यायपालिका भारतीय न्यायिक प्रणाली का हिस्सा है जैसा कि भारतीय में परिकल्पित है संविधान और जिला प्रशासन से स्वतंत्र।